प्यार तो बस प्यार है

प्यार का न कोई रंग है न रूप है, ये तो बस खुदा का ही रूप है

प्यार तो पारदर्शी है, इसमें न कोई छल है न लूट है

ये तो वो आसमां है, जो खुद में सबको ढक ले

इसका न कोई अंत है न जीत है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s